+ A | - A

नीतियां

रजिस्‍ट्री ने पंजीकरण और .IN डोमेन नामों के पंजीकरण और प्रशासन के लिए नई नीतियां बनाई हैं। डोमेन .IN को लोकप्रिय बनाने का लक्ष्‍य इसे उपयोग के लिए आसान बनाना है और यह अब अधिक-से-अधिक भारतीय नागरिकों के लिए इंटरनेट उपलब्‍ध कराने का एक तरीका है। आम तौर पर ये नीतियां 1 जनवरी 2005 से प्रभावी हैं। सामान्‍य नीतियां नीचे दी गई हैं।

मूल्‍य

नीचे भारतीय मुद्रा में प्रतिवर्ष रजिस्‍ट्रारों के होल सेल मूल्‍य बताए गए हैं (पंजीकरण, स्‍थानांतरण और स्‍वत: नवीकरण)। ये रजिस्‍ट्रार नए नामों, नवीकरण या RGP पुन: प्राप्ति के लिए अपनी इच्‍छानुसार खुदरा मूल्‍य तय करने के लिए स्‍वतंत्र हैं। कृपया प्रत्‍येक
प्रत्‍यायित रजिस्‍ट्रार की सूची देखें।

द्वितीय स्‍तर का डोमेन, उदाहरण के लिए .IN 350
तृतीय स्‍तर का डोमेन, उदाहरण के लिए co.in, net.in, org.in 250
RGP पुन: प्राप्ति शुल्‍क 1000

उपलब्‍ध नाम

निम्‍नलिखित क्षेत्रों में असीमित पंजीकरण उपलब्‍ध हैं। यह पंजीकरण दुनिया भर में सभी के लिए स्‍वतंत्र रूप से उपलब्‍ध हैं और इसका कोई गठबंधन या अन्‍य योग्‍यताएं नहीं है :

  • .in
  • co.in
  • net.in
  • org.in
  • firm.in
  • gen.in (सामान्‍य)
  • ind.in (व्‍यक्ति)

भारत में योग्‍यता प्राप्‍त संगठनों द्वारा उपयोग के लिए निम्‍नलिखित क्षेत्रों को आरक्षित किया गया है।

  • ac.in (शैक्षिक)
  • res.in (भारतीय अनुसंधान संस्‍थान)
  • edu.in (भारतीय महाविद्यालय और विश्‍वविद्यालय)
  • gov.in (भारत सरकार)
  • mil.in (भारतीय सेना)

सामान्‍य पंजीकरण नीतियां

  • काल अवधि : 16 अक्‍तूबर 2008 को 15.00 यूटीसी से प्रभावी डोमेन नाम कम-से-कम एक वर्ष और अधिक-से-अधिक 10 वर्ष के लिए पंजीकृत किए जाते हैं।
  • स्‍वत: नवीकरण : ये डोमेन अपनी काल अवधि समाप्‍त होने पर (समापन तिथि) अपने आप नवीकृत हो जाते हैं। कृपया विस्‍तृत जानकारी के लिए अपने रजिस्‍ट्रार से संपर्क करें।
  • डोमेन की लंबाई : .IN डोमेन नाम 3 से 63 अक्षरों तक हो सकते हैं।
  • उपलब्‍ध अक्षर : केवल अक्षर, अंक और हाइफन डोमेन नाम के रूप में स्‍वीकार किए जाएंगे। ये नाम हाइफन से आरंभ या हाइफन पर समाप्‍त नहीं हो सकते हैं।
  • संपर्क की सूचना : पंजीकरण कराने वाले व्‍यक्तियों को अपने संपर्क की सही और शुद्ध जानकारी देनी चाहिए। निम्‍नलिखित संपर्क प्रकारों की आवश्‍यकता होती है : पंजीकरण कराने वाले व्‍यक्ति, प्रशासनिक, तकनीकी, बिलिंग। स्‍थायी नीति के अनुसार संपर्क के आंकड़े .IN WHOIS में प्रदर्शित किए जाएंगे जिसमें बिलिंग के संपर्क विवरण नहीं दर्शाए जाएंगे।
  • स्‍थानांतरण : अप्रतिबंधित क्षेत्रों में उपरोक्‍त उल्लिखित नामों के लिए पंजीकरण कराने वालों को अपनी इच्‍छानुसार रजिस्‍ट्रार के डोमेन में स्‍थानांतरण की अनुमति होगी। पंजीकरण कराने वाले व्‍यक्तियों को इस स्‍थानांतरण की प्रक्रिया के बारे में जानने के लिए अपनी इच्‍छानुसार रजिस्‍ट्रार से संपर्क करना चाहिए। रजिस्‍ट्रार-से-रजिस्‍ट्रार तक स्‍थानांतरण की अनुमति एक डोमेन नाम बनाने के बाद 60 दिनों तक नहीं होगी। एक रजिस्‍ट्रार-से-रजिस्‍ट्रार तक का स्‍थानांतरण डोमेन नाम की अवधि में एक वर्ष जोड़ता है, जो इसे प्राप्‍त करने वाले रजिस्‍ट्रार से प्रभावित किया जाता है। अत: रजिस्‍ट्रार डोमेन वर्ष के लिए पंजीकरण कराने वालों से प्रभार ले सकते हैं।
  • ग्रेस अवधि : कुछ विशिष्‍ट समय अवधियों के अंदर रजिस्‍ट्रारों द्वारा लेन देन को रद्द करने की अनुमति कुछ विशिष्‍ट ग्रेस अवधि के लिए दी जाती है। इसकी अधिक जानकारी के लिए कृपया अपने रजिस्‍ट्रार से संपर्क करें।
  • नेमसर्वर्स : .IN डोमेन रजिस्‍टर करने के लिए पंजीकरण कराने वालों को नेमसर्वर प्रदान करने की जरूरत नहीं होती है। उस ज़ोन की फाइल में आने के लिए और इंटरनेट पर उपलब्‍ध होने के लिए कम से कम एक वैध IPv4 या IPv6 नेम सर्वर इस डोमेन नाम के साथ जुड़ा होना चाहिए। कम से कम दो वैध नेमसर्वरों का उपयोग करने की सिफारिश की जाती है।
  • अंतरराष्‍ट्रीय डोमेन नेम (IDNs) : रजिस्‍ट्ररी की योजना है कि भविष्‍य में आईडीएन पंजीकरणों के साथ आईडीएन पंजीकरण हिन्‍दी, तमिल और अन्‍य भारतीय भाषाओं में स्‍वीकार किए जाएगे। अगली घोषणा तक अंतरराष्‍ट्रीय लिपि (डायक्रिटिकल मार्क सहित) लिपि में डोमेन नामों के कोई आवेदन स्‍वीकार नहीं किए जाएंगे। तीसरे और चौथे स्‍थानों पर हाइफन के डोमेन अस्‍वीकार कर दिए जाएंगे।
  • रजिस्‍ट्री को प्राधिकार है कि यदि राष्‍ट्रीय हित या सार्वजनिक आदेश के साथ कोई विवाद होता है तो वह पंजीकरण अस्‍वीकार कर दें या लंबित कर दें।
  • रजिस्‍टरी प्रचालक को आबंटित बैंडविड्थ और रजिस्‍ट्रार को आबंटित कनेक्‍शन के समायो‍जन का अधिकार है।

डोमेन जीवन चक्र


Domain Life Cycle

आरक्षित नाम

सरकार ने सरकार तथा रजिस्‍ट्ररी के उपयोग हेतु नामों की एक सूची आरक्षित की है।