Contact Us

Please contact your registrar If you have a question about the status or use of your domain name. Your main relationship is with your registrar, and only your registrar can make changes to your domain name record. You can perform a WHOIS query to find out which .IN registrar sponsors your domain name. If you are working with a reseller, please contact the reseller, though you may choose to also contact the registrar if you have difficulties reaching the Reseller.

Help

This section provides you help to access through the content/pages of this website.

Different file formats

Registry.IN website includes web pages which present some content in different formats such as Portable Document Format (PDF), Word, Excel etc. In order to access these contents, your browser would require certain software. For example, to access a PDF document, you would require Acrobat Adobe Reader which you can download from the Internet for free.

बार बार पूछे जाने वाले सामान्य प्रश्न

ये .IN डोमेन के बारे में बार बार पूछे जाने वाले प्रश्नों के उत्तरों हैं। बार बार पूछे जाने वाले अन्य प्रश्नों के लिए कृपया इस अनुभाग के लिंक देखें। अपने डोमेन नेम को स्थानांतरित करने के लिए और अधिक जानकारी पाने हेतु यहां क्लिक करें.

बार बार पूछे जाने वाले प्रश्न

सी-डेक सेवाएं शट डाउन

23 जनवरी, 2006: इस तिथि पर सी-डेक के पास .IN डोमेन नामों के प्रबंधन का कोई दायित्व नहीं है। सी-डेक के साथ पंजीकरण कराने वालों से उनके नाम अपनी इच्छानुसार नए रजिस्ट्रारों के पास स्थानांतरित करने के लिए कहा गया था (नीचे देखें)। जो नाम अंतिम तिथि तक स्थानांतरित नहीं किए गए थे उन्हें बांटा गया और ऐसे .IN रजिस्ट्रारों के पास स्थानांतरित किया गया जिन्होंने इसमें दिलचस्पी दिखाई। ये रजिस्ट्रार अब इन डोमेन के लिए सेवा प्रदान करने हेतु उत्तरदायी हैं और जिन्हें नवीकरण प्रदान करने का अधिकार है। यदि आप देखना चाहते हैं कि कौन-सा रजिस्ट्रार एक विशेष डोमेन का प्रायोजन करता है तो कृपया WHOIS में उस डोमेन नेम की खोज करें।

22 नवम्बर, 2005: सी-डेक से अन्य प्रत्यायित रजिस्ट्रारों के पास नाम स्थानांतरित करने की अंतिम तिथि बढ़ाई गई है। यह नई अंतिम तिथि 31 दिसम्बर 2005 है। यह पंजीकरण कराने वालों को दिया गया अतिरिक्त समय है जब वे अपने स्थानांतरण पूरे कर सकते हैं। संशोधित अंतिम तिथि के अलावा NIXI की पिछली घोषणाएं (नीचे) प्रभावी रहेंगी।

22 अग्सत 2005

C-DAC द्वारा प्रदान किए गए डोमेन नाम पंजीकरणकर्ताओं के लिए :

नीतियां

रजिस्ट्री ने पंजीकरण और .IN डोमेन नामों के पंजीकरण और प्रशासन के लिए नई नीतियां बनाई हैं। डोमेन .IN को लोकप्रिय बनाने का लक्ष्य इसे उपयोग के लिए आसान बनाना है और यह अब अधिक-से-अधिक भारतीय नागरिकों के लिए इंटरनेट उपलब्ध कराने का एक तरीका है। आम तौर पर ये नीतियां 1 जनवरी 2005 से प्रभावी हैं। सामान्य नीतियां नीचे दी गई हैं।

मूल्य
नीचे भारतीय मुद्रा में प्रतिवर्ष रजिस्ट्रारों के थोक का मूल्य बताए गए हैं (पंजीकरण, स्थानांतरण और स्वत: नवीकरण)। ये रजिस्ट्रार नए नामों, नवीकरण या RGP पुन: प्राप्ति के लिए अपनी इच्छानुसार खुदरा मूल्य तय करने के लिए स्वतंत्र हैं। कृपया प्रत्येक प्रत्यायित रजिस्ट्रार की सूची देखें।

द्वितीय स्तर का डोमेन, उदाहरण के लिए .IN: 350
तृतीय स्तर का डोमेन, उदाहरण के लिए co.in, net.in, org.in: 250
RGP पुन: प्राप्ति शुल्क: 1000

खंडन: यदि आप रुपये का चिन्ह नहीं देख पा रहे हैं, तो कृपया अपने ब्राउज़र के फ़ॉन्ट्स का अद्यतन करें.

उपलब्ध नाम
निम्नलिखित क्षेत्रों में असीमित पंजीकरण उपलब्ध हैं। यह पंजीकरण दुनिया भर में सभी के लिए स्वतंत्र रूप से उपलब्ध हैं और इसका कोई गठबंधन या अन्य योग्यताएं नहीं है :

  • .in
  • co.in
  • net.in

अपने .IN डोमेन का पंजीकरण करें

क्या आप तैयार हैं लाखों सफल व्यवसाइयों तथा अन्य लोगों के साथ जुड़ने को जो भारत का अपना इंटरनेट एड्रेस प्रयोग कर रहे हैं?

यह काफी सरल है!!

.IN डोमेन नाम अब सभी के लिए उपलब्ध हैं। कंपनियां, व्यक्ति और संगठन, चाहे भारत में हों या विदेश में अब इसके पात्र हैं। अपने .IN डोमेन नाम का उपयोग करते हुए स्वयं पर गर्व करें – जो भारत के भविष्य का संकेत है।

पंजीकरण के लिए, हमारे प्रत्यायित .IN रजिस्ट्रार की सूची देखें। ये कंपनियां जनता को .IN डोमेन की बिक्री के लिए अधिकृत हैं।

.IN के बारे में

.IN इंटरनेट पर भारत का शीर्ष स्तरीय डोमेन है। जैसे कि .COM, .IN का उपयोग ई-मेल, वेबसाइट तथा अन्य अनुप्रयोगों में किया जाता है। परन्तु अन्य डोमेन के विपरीत .IN भारत का एक विशिष्ट संकेत है और दुनिया में इसकी एक भूमिका है।

.IN नामों को पंजीकृत कराने की प्रक्रिया सरल बनाई गई है। इससे कोई भी व्यक्ति .IN डोमेन नामों का पंजीकरण तथा उपयोग कर सकता है। अब .IN नाम पंजीयकों की संख्या के माध्यम से साइन अप करने के लिए उपलब्ध हैं। ये .IN डोमेन लेना आसान है, इनका उपयोग आसान है और ये तेज तथा भरोसेमंद भी हैं।

.IN रजिस्ट्री में स्वागत है

Image of Red Fort.IN भारत देश का सर्वोच्च डोमेन है. भारत सरकार ने IN डोमेन रजिस्ट्री का संचालन निक्सी (NIXI) को सौंपा था। IN रजिस्ट्री IN डोमेन का संचालन तथा प्रबंधन करती है.

नेशनल इंटरनेट एक्सचेंज ऑफ़ इंडिया अथवा NIXI भारतीय कंपनी अधिनियम, 1956 की धारा 25 के तहत एक गैर लाभकारी कंपनी है, जिसका उद्देश्य देश में उन्नत इंटरनेट सेवाएं प्रदान करना है।

Registrants IDN FAQ

1. What are Internationalized Domain Names?
2. When will .भारत IDNs be available?
3. Which languages are supported in this Devanagari IDN launch?
4. How can I register an IDN?
5. How much does it cost to register IDNs?
6. What browsers support IDNs?
7. How are IDNs displayed in WHOIS?

1. What are Internationalized Domain Names?

Internationalized Domain Names (IDNs) are domain/host names that are represented with native language, non-ASCII characters. The native language domain name is followed by the top- level domain (TLD), such as .भारत. An example of an IDN is: उदाहरण.भारत.

2. When will .भारत IDNs be available?
NIXI will launch the .भारत Devanagari IDN Sunrise registrations on 15th August 2014 at 09:00 IST (03:30 UTC) in a phased manner. The Sunrise information is available with the .IN Accredited Registrars. The .भारत IDNs would be available on first-come-first-serve basis starting 18th November, 2014 at 09:00 IST [03:30 UTC] onwards.

3. Which languages are supported in this Devanagari IDN launch?

Registry Advisory: Dual Stack (IPv6) connectivity to .IN Shared Registry System

Dear Registrars,

You may be aware that as per the Department of Telecom (DOT), Government of India roadmap for migration to IPv6 "All new registrations of .IN domain name is to be compulsorily on dual stack with effect from 1st January, 2014. The entire .IN domain should migrate to IPv6 (dual stack) latest by June 2014 as mandated by the Government.

Accordingly, .IN registry has extended support for connections to the registry hosts (EPP, WHOIS and Web) on IPv6 starting 15th May 2014 00:00 IST [14 May 2014, 18:30 UTC].

IPv6 subnets can be a combination of up to 3 subnets of /128, /64, /48. Registrars can submit IPv6 subnets as they see fit, as long as the total number of both IPv4 and IPv6 subnets stays within the limit of total 3 subnets.

Go for .IN

Go for .in

.in, the unique address space of India, is impacting the virtual space. A space where all of us imagine, innovate and interact.

On this momentous day let's go for .in - an address which is backed by world-class technology that is secure, affordable, available, reliable, fast, and truly Indian.

Find your very own .in domain and visit your favorite registrar to purchase it today!

पंजीयक बार बार पूछे जाने वाले प्रश्‍न

.IN Registry में स्‍वागत है :

Image of Red Fortइन रजिस्‍ट्री (INRegistry) का सृजन NIXI नेशनल (इंटरनेट एक्‍सचेंज ऑफ इंडिया) द्वारा किया गया है। निक्‍सी भारतीय कंपनी अधिनियम, 1956 की धारा 25 के तहत एक गैर लाभकारी कंपनी है, जिसका उद्देश्‍य देश में उन्‍नत इंटरनेट सेवाएं प्रदान करना है।

.IN Registry System - DNSSEC Deployment [15 November 2011, 15:00 UTC]

Subject: .IN Registry System - DNSSEC Deployment [15 November 2011, 15:00 UTC]

Registrars,

The .IN Registry is planning the final step to realizing full DNSSEC deployment in compliance with the RFC 5910: launching of signed delegations. The .IN Registry is pleased to inform you that DNSSEC will be deployed in the .IN Production Registry System (SRS) on 15 November 2011 effective 15:00 UTC.

The .IN Registry successfully signed the .IN zone file with DNSSEC on 4 November 2010.

.IN Registry has taken a phased approach before ultimately reaching production readiness. The registry has been in a DNSSEC quiet period to thoroughly test various DNSSEC related test cases in the signed zone to mitigate any risks to the larger .IN community. The next phase is the launch of signed delegations.

DNSSEC implementation will be in compliance with the latest RFC 5910. Please note that registrars are not required to offer DNSSEC to their customers. Registrars who are interested in offering and are currently offering DNSSEC to their customers MUST pass the mandatory DNSSEC OT&E Test. For all other registrars the DNSSEC OT&E Test is optional.

नीतियां

रजिस्‍ट्री ने पंजीकरण और .IN डोमेन नामों के पंजीकरण और प्रशासन के लिए नई नीतियां बनाई हैं। डोमेन .IN को लोकप्रिय बनाने का लक्ष्‍य इसे उपयोग के लिए आसान बनाना है और यह अब अधिक-से-अधिक भारतीय नागरिकों के लिए इंटरनेट उपलब्‍ध कराने का एक तरीका है। आम तौर पर ये नीतियां 1 जनवरी 2005 से प्रभावी हैं। सामान्‍य नीतियां नीचे दी गई हैं।

मूल्‍य

Welcome to .IN Registry :

Image of Red Fort.IN is India’s Country Code Top Level domain (ccTLD). The Govt. of India delegated the operations of INRegistry to NIXI in 2004. The INRegistry operates and manages India’s .IN ccTLD.

The National Internet Exchange of India or NIXI is a Not-for-Profit Company incorporated under section 25 of the Indian Companies Act, 1956, (now section 8 under Companies Act, 2013) with an objective of facilitating improved internet services in the country.

The INRegistry ensure operational stability, security and reliability of the .in ccTLD. The INRegistry implements the policies of Department of electronics and Information Technology, Ministry of Communications and Information Technology, Government of India from time to time.

The INRegistry facilitates the registration of domain names through its accredited registrars spread all over world. For the complete list of accredited registrars, please click here

Why “.in” domain name?

The .in domain name creates and builds a distinct Indian identity for brands, companies and individuals in the cyberspace.